12 वां श्रीफल पत्रकारिता पुरस्कार समारोह 7 नवम्बर को

label_importantसमाचार

– अभिषेक तिवारी, चंदन शर्मा,आनंद चौधरी, शोएब खान, कुंदन श्रीवास्तव, तरुण जैन को किया जाएगा सम्मनित
-भीलूड़ा के श्री शांतिनाथ दिगंबर जैन मंदिर में होगा समारोह

जयपुर/ भीलूड़ा। पत्रकारिता के क्षेत्र में विशिष्ट कार्य और समर्पित योगदान के लिए धार्मिक श्रीफल परिवार अंतर्गत श्रीफल फाउण्डेशन की ओर से दिए जाने वाले प्रतिष्ठित 12वां श्रीफल पत्रकारिता पुरस्कार 2020, समारोह आगामी 7 नवम्बर 2021 को भीलूड़ा जिला डूंगरपुर (राज.) स्थित श्री शांतिनाथ दिगंबर जैन मंदिर में होगा। धार्मिक श्रीफल परिवार के संस्थापक अंतर्मुखी मुनि श्री पूज्य सागर महाराज के सानिध्य में यह आयोजन होगा। संस्थान के मनीष बैद, तृष्टि जैन ने श्रीफल पत्रकारिता पुरस्कारों की घोषणा करते हुए बताया कि समारोह में प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के क्षेत्र में काम कर रहे देश के छह पत्रकारो को पुरस्कृत किया जाएगा। इस मौके पर स्व. कर्पूरचंद्र कुलिश स्मृति श्रीफल पत्रकारिता पुरस्कार ग्रुप कार्टूनिस्ट/डिप्टी एडिटर, राजस्थान पत्रिका समूह के अभिषेक तिवारी, आचार्य अभिनंदन स्मृति श्रीफल पत्रकारिता पुरस्कार संपादकीय प्रभारी, दैनिक जागरण,धनबाद के डॉ चंदन शर्मा, अतुल्य सागर स्मृति श्रीफल पत्रकारिता पुरस्कार ,विशेष संवाददाता दैनिक भास्कर जयपुर के आनंद चौधरी,चारुकीर्ति भट्टरक स्वामी श्रवणबेलगोला स्मृति श्रीफल पत्रकारिता पुरस्कार प्रधान संवाददाता द टाइम्स ऑफ इंडिया जयपुर के मोहम्मद शोएब खान ,भगवान बाहुबली स्मृति श्रीफल पत्रकारिता पुरस्कार कन्टेन्ट एडवाइजर दूरदर्शन दिल्ली के कुंदन कुमार श्रीवास्तव, रत्न अम्मा हेगड़े धर्मस्थल स्मृति श्रीफल पत्रकारिता पुरस्कार सहायक निदेशक,जनसंपर्क मुख्यमंत्री कार्यालय,राजस्थान के तरुण जैन को पुरस्कृत किया जाएगा। गत वर्ष कोरोना के चलते लॉक डाउन होने से श्रीफल पत्रकारिता पुरस्कार का आयोजन नहीं हो सका था साल 2020 का श्रीफल पत्रकारिता पुरस्कार समारोह साल 2021 में आयोजित किया जा रहा है।

गौरतलब है कि श्रीफल पुरस्कार की शुरुआत वर्ष 2009 से हुई, जिसके तहत अब तक 54 पत्रकारों को सम्मानित किया जा चुका है। वहीं इस बार श्रीफल पत्रकारिता पुरस्कार समारोह का आयोजन श्री शांतिनाथ दिगंबर जैन मंदिर भीलूड़ा के सौजन्य से होगा।

अब एक छोटा सा अवलोकन करते हैं पुरस्कारों पर

2009 से स्व. कर्पूरचंद्र कुलिश स्मृति और सन् 2009 से अतुल्य सागर स्मृति पुरस्कार में श्रीफल पुरस्कार देने का क्रम प्रारम्भ हुआ। उसके बाद सन् 2011 से भगवान बाहुबली स्मृति पुरस्कार, सन् 2013 से चारूकीर्ति भट्टारक स्वामी, सन् 2015 से अभिनंदन सागर स्मृति पुरस्कार, श्रवणबेलगोला स्मृति पुरस्कार और सन् 2017 से रत्न अम्मा हेगड़े धर्मस्थल स्मृति पुरस्कार देना प्रारम्भ हुआ।

इनको मिला पुरस्कार : यह है व्यक्तिगत परिचय :

Related Posts

Menu