मंथन: भगवान महावीर

label_importantआलेख
bhagwan mahaveer

प्रस्तुति : तुष्टि जैन
M.com DEl.Ed

बालक महावीर का जन्म कहाँ हुआ था ?
उत्तर –
बालक महावीर का जन्म कुण्डग्राम (वैशाली) विहार में हुआ था।

तीर्थंकर महावीर के पाँच कल्याणक किस-किस तिथि में हुए थे?
उत्तर – गर्भकल्याणक
– आषाढ़ शुक्ल षष्ठी, शुक्रवार, ई.पू. 599 में।
जन्मकल्याणक – चैत्र शुक्ल त्रयोदशी, सोमवार, ई.पू. 598 में।
दीक्षाकल्याणक – मगसिर कृष्ण दशमी, सोमवार, ई.पू.569 में।
ज्ञानकल्याणक – वैशाख शुक्ल दशमी, रविवार, ई.पू.557 में।
मोक्षकल्याणक – कार्तिककृष्ण अमावस्या, मंगलवार ई.पू. 527 में विक्रम सं.पूर्व 470 एवं शक पूर्व 605 में।

बालक महावीर कहाँ से आए थे?
उत्तर –
बालक महावीर अच्युत स्वर्ग के पुष्पोत्तर विमान से आए थे।

बालक महावीर के माता-पिता एवं दादा-दादी का क्या नाम था ?
उत्तर –
बालक महावीर की माता का नाम त्रिशला, पिता का नाम राजा सिद्धार्थ तथा दादा का नाम सर्वार्थ, दादी का नाम श्रीमती था।

राजकुमार महावीर की दीक्षा स्थली, दीक्षा वन एवं दीक्षा वृक्ष का क्या नाम था ?
उत्तर –
राजकुमार महावीर की दीक्षा स्थली कुण्डलपुर, दीक्षा वन-षण्डवन एवं दीक्षा वृक्ष-शालवृक्ष था।

मुनि महावीर की पारणा कहाँ एवं किसके यहाँ हुई थी ?
उत्तर –
मुनि महावीर की पारणा राजा कूल के यहाँ कूलग्राम में हुई थी।

मुनि महावीर को केवलज्ञान कहाँ कौन से वृक्ष के नीचे हुआ था ?
उत्तर –
मुनि महावीर को केवलज्ञान षण्डवनध्मनोहर वन (ऋजुकूला नदी) एवं शाल वृक्ष के नीचे हुआ था।

तीर्थंकर महावीर के समवसरण में मुनि, आर्यिकाएँ, श्रावक और श्राविकाएँ कितनी थीं?
उत्तर –
तीर्थंकर महावीर के समवसरण में 14,000 मुनि, 36,000 आर्यिकाएँ 1 लाख श्रावक और 3 लाख श्राविकाएँ थीं।

तीर्थंकर महावीर के मुख्य गणधर एवं मुख्य गणिनी एवं मुख्य श्रोता कौन थे?
उत्तर –
तीर्थंकर महावीर के मुख्य गणधर गौतम, गणिनी चंदना, श्रोता राजा श्रेणिक थे।

तीर्थंकर महावीर के यक्ष-यक्षिणी का क्या नाम था ?
उत्तर –
तीर्थंकर महावीर के यक्ष गुहाक, यक्षिणी सिद्धायनी।

तीर्थंकर महावीर के कितने गणधर थे। नाम बताइए?
उत्तर –
तीर्थंकर महावीर के11 गणधर थे। इन्द्रभूत (गौतम), वायुभूति, अग्निभूति, सुधर्मास्वामी, मौर्य, मौन्द्र, पुत्र, मैत्रेय, अकम्पन, अंधवेला तथा प्रभास थे।

तीर्थंकर महावीर का प्रथम समवसरण कहाँ लगा था?
उत्तर –
तीर्थंकर महावीर का प्रथम समवसरण विपुलाचल पर्वत पर लगा था।

तीर्थंकर महावीर की देशना कब खिरी थी?
उत्तर –
तीर्थंकर महावीर की देशना श्रावण कृष्ण प्रतिपदा, शनिवार 1 जुलाई, ई.पू. 557 में खिरी थी।

तीर्थंकर महावीर के समवसरण में राजा श्रेणिक ने कितने प्रश्न किए थे?
उत्तर –
तीर्थंकर महावीर के समवसरण में राजा श्रेणिक ने 60 हजार प्रश्न किए थे।

तीर्थंकर महावीर को सम्यग्दर्शन किस पर्याय में हुआ था ?
उत्तर –
तीर्थंकर महावीर को सम्यग्दर्शन सिंह की पर्याय में हुआ था।  

तीर्थंकर पार्श्वनाथ के निर्वाण पश्चात् कितने वर्षों के बाद बालक महावीर का जन्म हुआ था ?
उत्तर –
तीर्थंकर पार्श्वनाथ के निर्वाण के 178 वर्ष बाद बालक महावीर का जन्म हुआ था।

तीर्थंकर महावीर के कितने नाम थे ?

उत्तर – 1. वीर- कृजन्माभिषेक के समय इन्द्र को शंका हुई कि बालकइतने जलप्रवाहको कैसे सहनकोरेगा। बालक ने अवधिज्ञान से जानकर पैर के अंगूठे से मेरुपर्वत को थोड़ा-सा दबाया, तब इन्द्र को ज्ञात हुआ इनके पास बहुत बल है। इन्द्र ने क्षमा माँगी एवं कहा कि ये तो वीर जिनेन्द्र हैं।

2.वद्धमान-राजा सिद्धार्थ ने कहा जब से बालक प्रियकारिणी के गर्भ में आया उसी दिन से घर, नगर और राज्य में धन-धान्य की समृद्धि प्रारम्भ हो गई, अतएव इस बालक का नाम वर्द्धमान रखा जाए।

3.सन्मति – एक समय संजय और विजय नाम के दो चारण ऋद्धिधारी मुनियों को तत्व सम्बन्धी कुछ जिज्ञासा थी। वर्द्धमान पर दृष्टि पड़ते ही उनकी जिज्ञासा का समाधान हो गया तब मुनियों ने वर्द्धमान का नाम सन्मति रखा।

4.महावीर-वर्द्धमान मित्रों के साथ एक वृक्ष पर क्रीड़ा (खेल) कर रहे थे, तब संगमदेव ने भयभीत करने के लिए एक विशाल सर्प का रूप धारण कर वृक्ष के तने से लिपट गया। सब मित्र डर गए, डाली से कूदे और भाग गए, किन्तु वर्द्धमान सर्प के ऊपर चढ़कर ही उससे क्रीड़ा करने लगे थे। ऐसा देख संगमदेव ने अपने रूप में आकर वर्द्धमान की प्रशंसा कर महावीर नाम दिया।

5.अतिवीर-एक हाथी मदोन्मत्त हो किसी के वश में नहीं हो रहा था। उत्पात मचा रहा था। महावीर को ज्ञात हुआ तो वे जाने लगे, तब लोगों ने मना किया किन्तु वे नहीं माने और चले गए। हाथी महावीर को देख नतमस्तक हो सूंड उठाकर नमस्कार करने लगा। तब जनसमूह ने कुमार की प्रशंसा की और उनका नाम अतिवीर रख दिया।

मुनि महावीर पर किसने उपसर्ग किया था ?
उत्तर –
मुनि महावीर पर उपसर्ग भव नामक यक्ष अथवा स्थाणु नाम रुद्र ने किया। ऐसे दो नाम पुराणों में आते हैं।

भगवान महावीर की आयु कितनी थी ?
उत्तर –
72 वर्ष

भगवान महावीर का साधना काल कितना है ?
उत्तर –
12 वर्ष

भगवान महावीर का केवलिकाल कितना था ?
उत्तर –
30 वर्ष

Related Posts

Menu