बीते वर्ष की गलतियों को न दोहराने का करें संकल्प – आचार्य श्री सुंदर सागर महाराज

label_importantसमाचार

 

श्री आदिनाथ दिगम्बर जैन मंदिर में नववर्ष की पूर्व संध्या पर हुए कार्यक्रम

बांसवाड़ा। आचार्य श्री सुंदर सागर महाराज के सान्निध्य में श्री आदिनाथ दिगम्बर जैन मंदिर, मोहन कॉलोनी में नववर्ष की पूर्व संध्या पर सहस्त्रनाम की आराधना, णमोकार मन्त्र के जाप, आरती एवं भजन संध्या आदि कार्यक्रम आयोजित किए गए।

इस अवसर पर भगवान आदिनाथ की प्रतिमा के समक्ष आचार्य श्री सुंदर सागर महाराज के सान्निध्य में सहस्त्रनाम के मंत्रों के साथ दस जैन श्रावक परिवार ने 1008 दीपक, 1008 काजू,1008 बादाम,1008 सुपारी,1008 लौंग, 1008 इलायची,1008 अखरोट,1008 फूल आदि के साथ आराधना कर निर्जरा की भावना की गई। इसी के साथ 108 दीपकों से आचार्य श्री एवं भगवान की आरती भी की गई। कार्यक्रम के दौरान श्रावकों ने भजनों पर नृत्य किया और एक स्वर में जय जयकार करते रहे । इस अवसर पर बीते चार महीने में हुए कार्यक्रमों की झलकियां 40 मिनिट के वीडियो के माध्यम से दिखाई गईं। रात को 12 बजते ही आचार्य संघ और श्रावकों ने भगवान के दर्शन कर नमोस्तु किया। आचार्य श्री ने नववर्ष की डारियों में केसर से स्वास्तिक बनाकर उपस्थित श्रावकों को आशीर्वाद स्वरूप डारियां भेंट की।


आचार्य श्री सुंदर सागर महाराज में शनिवार को प्रातः काल की धर्म सभा में कहा कि सभी यह भावना करना कि मरण सम्यक्त्व के साथ हो। किसी से राग-द्वेष नहीं रखना। किसी की गलती को नहीं, उसकी अच्छाई को देखना। सभी से क्षमा मांग लेना। किसी के साथ बैर भाव नहीं रखना बल्कि मैत्री, प्रमोद और करुणा के भाव रखना। उन्होंने कहा कि वर्ष 2021 के जो गलतियां की हैं, वह अब नही करूंगा, यह संकल्प भी सभी को करना है। इस अवसर पर समाज के अध्यक्ष पवन नाचनावत, लोकेन्द्र जैन आदी उपस्थित थे। इसके बाद दोपहर में संघस्थ भैया, दीदी एवं अन्य भक्तों ने आचार्य श्री का पाद प्रक्षालन जल, दूध, दही और केसर किया।

 

 

Related Posts

Menu