दीक्षार्थी पांच दीदियों की गोद भराई कर निकाली शोभायात्रा

label_importantसमाचार

सात दिवसीय महोत्सव का दूसरा दिन, कल्याण मंदिर में आचार्य सुंदर सागर के सानिध्य में 44 अर्घ्य चढ़ाए

बांसवाड़ा । आचार्य सन्मति सागर महाराज के शिष्य आचार्य सुंदर सागर महाराज के मुख्य सानिध्य में मोहन कॉलोनी दिगम्बर जैन मंदिर में सात दिवसीय महोत्सव के दूसरे दिन रविवार को कल्याण मंदिर विधान और दीक्षार्थियों की वैराग्य अनुमोदना आचार्य संघ ने की । राष्ट्रीय सुंदर युवा मंच की ओर से दीक्षार्थी रीता दीदी, पूजा दीदी, सुरभि दीदी, लक्ष्मी दीदी और रश्मि दीदी की गोद भराई कर शोभायात्रा निकाली ।
इससे पहले सवेरे भगवान का जल, शक्कर, घी, दूध, दही, हल्दी,सफेद चंदन और लाल चंदन आदि अनेक द्रव्यों से पंचामृत अभिषेक किया ।
कल्याण मन्दिर विधान भगवान पार्श्वनाथ की भक्ति करते हुए 44 अर्घ्य चढ़ाए गए । विधान के बाद आचार्य सुंदर सागर महाराज, आचार्य सुवीर सागर महाराज, आचार्य अनुभव सागर महाराज के दीक्षार्थी दीदीयों का जल, दूध आदि से पाद पक्षालन किया । कल्याणमन्दिर विधान के पुण्यार्जक अजबलाल जैन परिवार थे ।
आचार्यश्री सुंदर सागर महाराज में दीदियों की वैराग्य की अनुमोदना करते हुए कहा कि पांचों दीदियों में वैराग्य की भावना का जन्म हुआ है, यह इनकी न जाने कितने जन्मों के पुण्य का फल है। शास्त्रों में कहा है कि किसी भी कार्य की सफलता उपादान, निमित्त, पुरुषार्थ, भाग्य और काल लब्धि के कारण होती है। दीदीयों की दीक्षा में इन सभी ने काम किया है। पांचों का अपना महत्व है। दीदीयों का उपादान काम किया उन्होंने पुरुषार्थ किया और हम निमित्त बन गए। इसी प्रकार भाग्य और काल लब्धि में भी काम किया। 10 दिसम्बर को इनकी दीक्षा हो जाएगी । आचार्य सुंदर सागर महाराज में कहा कि आज कल्याणमन्दिर विधान के माध्यम से दीक्षार्थी रीता दीदी, पूजा दीदी, सुरभि दीदी,लक्ष्मी दीदी, रश्मि दीदी में भगवान की आराधना करते हुए वैराग्य के भावों को और मजबूत किया हैं । जिनेन्द्र भगवान के बताए मार्ग पर चल कर अपने आप को परमात्मा बनाएंगी ।
राष्ट्रीय सुंदर सागर युवा मंच की ओर से श्याम नगर से मोहन कॉलोनी जैन मंदिर तक पांचों दीक्षार्थी बहनों की शोभायात्रा निकाली और गोद भराई का कार्यक्रम किया।
कार्यक्रम में आचार्य सुंदर सागर महाराज,आचार्य सुवीर सागर महाराज, आचार्य अनुभव सागर महाराज, अन्तर्मुखी मुनि पूज्य सागर महाराज सही 35 संतों का सानिध्य रहा । मंदिर समिति के संरक्षक वोरा अशोक जैन , अध्यक्ष पवन कुमार नश्नावत, उपाध्यक्ष पवन कुमार वोरा, महामंत्री मनोज जैन, कोषाध्यक्ष कांतिलाल रणियावत, सहमंत्री रमेशचंद्र रजावत, कार्यकारिणी सदस्य वोरा अशोक जैन, अजबलाल वोरा, रमणलाल नश्नावत, राजेशकुमार बोहरा, मतिलाल बोहरा, अशोक वैद्य, महावीरलाल गंगावत, दिनेश चंद्र रजावत, राजेश मोरिया, दिनेश कुमार वोरा, निलेश मेहता, पूर्व अध्यक्ष रमणलाल कलावत और डॉ दिनेश कुमार जैन सनत जैन ,राकेश राजावत,ऋषभ नश्नावत,आशीष नश्नावत,महावीर नश्नावत,लोकेन्द्र नश्नावत,जिनेन्द्र राजावत,पारस जैन और मयंक जैन समाजजन आदि
उपस्थित थे ।


Related Posts

Menu