दृष्टि अपने आप भी मिल सकती है – आचार्य श्री विद्यासागार जी

label_importantसमाचार

कुण्डलपुर पहुंचे 200 से अधिक संत

दमोह। आचार्य श्री विद्यासागर महाराज ने रविवार को कुण्डलपुर में अपने प्रवचनों में कहा कि दृष्टि हमें बड़ों से भी मिलती है और छोटों से भी मिल सकती है, मित्रों से और शत्रुओं से भी मिल सकती है, यह हमारी धारणा है कि जितना पढ़ाया गया, उतना ही मान लेते हैं। आचार्यों का यह आग्रह नहीं कि उपदेश से ही दृष्टि मिलती है। यह अपने आप भी मिल सकती है, क्योंकि निमित्त दूसरे हो सकते हैं, परंतु उपादान अपना ही होता है।
आचार्यश्री ने कहा कि तत्व होने के कारण उसको किसी से बांधा नहीं जा सकता। कई बार आंखो से देखा, कानों से सुना, फिर भी मुंह से स्पष्टीकरण देने का साहस नहीं करें, क्योंकि इस स्पष्टीकरण में परोक्ष छुपा है, क्या संकल्प है, क्या वर्तमान में घटित हुआ है फिर भी हम वर्तमान को पकड़कर चलते रहते हैं। गुरुदेव ने कंडे की अग्नि का उदाहरण देते हुए बताया कि कंडे की अग्नि का तब तक पता नहीं चलता जब तक राख को अलग नहीं किया जाए, उसी प्रकार हमारी वासनाएं, कषायंे भी इसी तरह धधकती रहती हैं। एक पक्ष है तो दूसरा भी पक्ष ही है, आदमी सोचता है कि एक मिले तो दूसरा छोड़ दें। धारणा सुधारने के लिए की जाती है, धारण करने के लिए नहीं और दूसरे को सुधारने के लिए नहीं की जाती।
आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज को नवधा भक्ति भाव से पड़गाहन और आहार का सौभाग्य संदीप मोदी, सौरभ मोदी अभाना एवं परिजनों को प्राप्त हुआ।
मुनिश्री सुधासागर महाराज का कुण्डलपुर के लिए मंगल विहार
आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के परम प्रभावक शिष्य मुनि श्री सुधा सागर जी महाराज का संघ सहित पद विहार चांदखेड़ी से कुण्डलपुर की ओर हो गया है। जनवरी माह के प्रथम सप्ताह में मुनिश्री के कुंडलपुर पहुचने की संभावना है। उल्लेखनीय है कि फरवरी 2022 में आयोजित होने वाले कुण्डलपुर महामहोत्सव में शामिल होने के लिए अभी तक 200 मुनिश्री और आर्यिका माताजी पहुंच चुके हैं।
मुनि संघ की कुण्डलपुर में हुई भव्य अगवानी
आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के परम प्रभावक शिष्य मुनि श्री अजित सागर जी महाराज, मुनि श्री सौम्य सागर जी महाराज, मुनि श्री निर्दाेष सागर जी महाराज का रविवार को कुण्डलपुर में मंगल प्रवेष हुआ। यहां सभी संतों की भव्य अगवानी हुई। इसी प्रकार आर्यिका आदर्शमति माताजी ससंघ, 15 माताजी का चातुर्मास उपरांत मंगल विहार कुण्डलपुर की ओर चल रहा है। रविवार दोपहर बाद दमोह पहुंचने पर नगर वासियों ने भव्य अगवानी की। संघ का सोमवार सुबह कुण्डलपुर की ओर पद विहार होगा।

Related Posts

Menu