द्रोणगिरी में आचार्य सौरभ सागर के वर्षायोग की कलश स्थापना 12 जुलाई को

label_importantसमाचार

आचार्य श्री का मंगल प्रवेश कल

छतरपुर। गुरुदत्तादि ऋषिराजों की निर्वाण भूमि व प्राचीन जैन मंदिरों से सुशोभित व कई दर्शनीय स्थलों से आलोकित लघु सम्मेद शिखरजी के नाम से विख्यात जैन तीर्थ पर आचार्य श्री सौरभ सागर जी महाराज का वर्ष 2022 का मंगल चातुर्मास किया जा रहा है उक्त जानकारी श्री दिगम्बर जैन सिद्धक्षेत्र द्रोणगिरि कमेटी के मंत्री भागचंद्र जैन पीली दुकान व उप मंत्री राजेश रागी ने देते हुए बताया कि 10 जुलाई रविवार यानी आज सुबह आचार्यश्री का मंगल प्रवेश द्रोणगिरी में हो रहा है। आचार्यश्री की अगवानी में जैन ध्वज, दिव्यघोष के साथ जनसमुदाय उपस्थित रहेंगे।
साथ ही बताया कि 12 जुलाई को जैन तीर्थ द्रोणगिरि (सेंधवा) में आचार्य श्री पुष्पदंत सागर जी महाराज के परम शिष्य संस्कार प्रणेता, ज्ञान योगी, आचार्य श्री सौरभ सागर जी महाराज का बुंदेलखंड में पहली बार व 28वां वर्षायोग/चातुर्मास हेतु कलश स्थापना समारोह कई कार्यक्रमों के साथ संपन्न किया जाएगा। चौवीसी स्थित विशाल सभामण्डप में होने वाले इस समारोह में कलश स्थापना के साथ ही 13 जुलाई को गुरु पूर्णिमा महोत्सव व 14 जुलाई को वीर शासन जयंती के उपलक्ष्य में कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे है।
जैन तीर्थ द्रोणगिरि की कमेटी ने सभी से इस पावन अवसर पर पधारकर पुण्यार्जन करने की अपील की है ।

Related Posts

Menu