हिन्दू सनातन धर्म के लिए 100 वां केस लड़ रहे है वरिष्ठ अधिवक्ता हरिशंकर जैन व उनके पुत्र विष्णु शंकर जैन

label_importantसमाचार

न्यूज सौजन्य – राजेश जैन,दद्दू

इंदौर । वरिष्ठ अधिवक्ता हरिशंकर जैन व उनके पुत्र विष्णु शंकर जैन, इन पिता पुत्र की जोड़ी को कौन नहीं जानता जिनकी मेहनत का नतीजा है राम मंदिर और अब ज्ञानवापी का सच। मीडिया प्रभारी राजेश जैन दद्दू पिता-पुत्र की जोड़ी की सराहना करते हुए बताते है कि अधिवक्ता हरिशंकर व उनके पुत्र ने अ-शांति. दूतों की नाक में दम कर रखा है। वे दोनो हिन्दू सनातन धर्म के अस्तित्व के लिए 100 वां केस लड़ रहे है। आगे कहा कि यह वही जैन समाज है जो देश मे सिर्फ 0.37% है, जो कि आधे % से भी कम है, लेकिन कभी माइनॉरिटी (अल्पसंख्यक) कार्ड को अपना हथियार नही बनाया।

साथ ही बताया कि इसी कड़ी को आगे बढ़ाते हुए पिता-पुत्र ने मथुरा के लिए भी याचिका डाली है, जिसे मा. उच्चतम न्यायालय ने स्वीकार कर लिया है। ऐसे पिता पुत्र की जोड़ी को सनातन धर्म की रक्षा मे अहम योगदान देने के लिए समाज जन इन्हें नमन करता है।

Related Posts

Menu