जानिए तीर्थंकर भगवान का प्रथम आहार किस पदार्थ का हुआ किसने कराया

label_importantधर्म
Jaaniye teerthkar bhagwan ka pratham aahaar kis padaarth ka hua kisne karaya

धर्मानुरागी बधुओं तीर्थंकर भगवानों के प्रथम आहार का बहुत महत्व है तो जानते है कि किस तीर्थंकर भगवान का प्रथम आहार किस पदार्थ का हुआ और किस के हाथों से हुआ-

  • २४ तीर्थंकर में से २३ तीर्थंकरो ने दीक्षा के बाद प्रथम पारणा खीर से किया था।
  • आदिनाथ भगवान ने हस्तिनापुर नगरी में प्रथम पारणा श्रेयांस कुमार ने इक्षु रस से कराया था।
  • अजितनाथ भगवान ने अयोध्या नगरी में ब्रह्मदत्त के हाथों खीर से पारणा किया था।
  • संभवनाथ भगवान ने श्रावस्ती नगरी में सुरेंद्रदत्त के हाथों खीर से पारणा किया था।
  • अभिनंदन स्वामी ने अयोध्या नगरी में इंद्रदत्त के हाथों खीर से पारणा किया था।
  • सुमतिनाथ भगवाने विजयपुर नगर में पद्म के हाथों खीर से पारणा किया था।
  • पद्मप्रभ स्वामी ने ब्रह्मस्थल नगरी में सोमदेव के हाथों खीर से पारणा किया था।
  • सुपार्श्वनाथ भगवान ने पाटलीखंड नगरी में महेंद्र के हाथों खीर से पारणा किया था।
  • चंद्रप्रभ स्वामी भगवान ने पद्मखंड नगरी में दीक्षा के सोमदत्त के हाथों खीर से पारणा किया था।
  • सुविधिनाथ भगवान ने श्वेतपुर नगरी में पुष्य के हाथों खीर से पारणा किया था।
  • शीतलनाथ भगवान ने रिष्टपुर नगर में पुनर्वसु के हाथो खीर से पारणा किया था।
  • श्रेयांसनाथ भगवान ने सिद्धार्थपुर नगरी में नंद के हाथों खीर से पारणा किया था।
  • वासुपूज्य स्वामी भगवान ने महापुर नगरी मे सुनंद के हाथों खीर से पारणा किया था।
  • विमलनाथ भगवान ने धान्यकट नगरी में जयना के हाथों खीर से पारणा किया था।
  • अनंतनाथ भगवान ने वर्धमानपुर नगरी में विजय के हाथों खीर से पारणा किया था।
  • धर्मनाथ भगवान ने सोमनस्य नगरी में धर्मसिंह के हाथों खीर से पारणा किया था।
  • शांतिनाथ भगवान ने मंदिरपुर नगरी में सुमित्र के हाथों खीर से पारणा किया था।
  • कुंथुनाथ भगवान ने चकपुर नगरी में वाध्रसिंह के हाथों खीर से पारणा किया था।
  • अरनाथ भगवान ने राजपुर नगरी में अपराजित के हाथों खीर से पारणा किया था।
  • मल्लिनाथ भगवान ने मिथिला नगरी में विश्वसेन के हाथों खीर से पारणा किया था।
  • मुनिसुव्रत स्वामी भगवान ने राजगृही नगरी में ब्रह्मदत्त के हाथों खीर से पारणा किया था।
  • नमिनाथ भगवान ने वीरपुर नगरी में हाथों खीर से पारणा किया था।
  • नेमिनाथ भगवान ने द्वारिका नगरी में वरदिन्न के हाथों खीर से पारणा किया था।
  • पार्श्वनाथ भगवान ने को कपट नगरी में धन्य के हाथों खीर से पारणा किया था।
  • महावीर स्वामी भगवान ने कुल्लग सन्निवेश में बहुलद्विज के हाथो खीर से पारणा किया था।

Related Posts

Menu