पूजा पाठ के बाद की अनाथाश्रम में सामग्री वितरित

label_importantसमाचार

-अंतर्मुखी मुनि श्री पूज्य सागर जी महाराज के सानिध्य में श्री दिगम्बर जैन चित्तौड़ा महिला मंडल की ओर से हुआ कार्यक्रम आयोजित उदयपुर/ अंतर्मुखी मुनि श्री पूज्य सागर जी महाराज के सानिध्य में श्री दिगम्बर जैन चित्तौड़ा महिला मंडल की ओर से सोमवार को भगवान चन्द्र प्रभु एवं भगवान पार्श्वनाथ का जन्म व तप कल्याणक महोत्सव श्री शांतिनाथ दिगम्बर जैन मंदिर में आयोजित किया गया। महिला मंडल से जुड़ी मधु चित्तौड़ा ने बताया कि इस अवसर पर मंडल की ओर से पूजन एवं आरती का कार्यक्रम हुआ। उन्होंने बताया कि शोभागपुरा स्थित राजकीय किशोर गृह में सुशीला चित्तौड़ा(पटवा) की ओर से गर्म इनर और मधु हेमलता चित्तौड़ा की ओर से खाद्य सामग्री वितरित की गई। इसके बाद शांतिनाथ मंदिर में हुए प्रवचन कार्यक्रम में अंतर्मुखी मुनि पूज्य सागर महाराज ने कहा कि मानव सेवा ही सबसे बड़ी सेवा है। अनाथ बच्चे के लिए भोजन, वस्त्र और आवास की व्यवस्था
करना सबसे बड़ा धर्म है। इस प्रकार का कार्य प्रशंसनीय है और समय-समय पर पूजा-पाठ के साथ करते रहना चाहिए। इससे पहले महिला मंडल की सभी सदस्यों के लिए स्वरुचि भोज का आयोजन चौगान मंदिर में हुआ। महिला मंडल की सदस्य गिरिजा, भारती, अंजू, भंवरीदेवी लोकेश, ऊषा, कमला और भावना सहित अन्य सदस्याओं ने कार्यक्रम को सफल बनाने में अपना योगदान किया। अर्चना ने धन्यवाद ज्ञापित किया।

Related Posts

Menu