मुनि श्री आदित्य सागर जी महाराज के श्रुत आराधना वर्षायोग का कलश स्थापना समारोह 10 जुलाई को

label_importantसमाचार

न्यूज सौजन्य- राजेश जैन दद्दू

इंदौर।  चर्या शिरोमणि आचार्य श्री विशुद्ध सागर जी महाराज के श्रुत संवेगी शिष्य मुनि श्री आदित्य सागर जी, इंदौर नगर गौरव मुनि श्री अप्रमित सागर जी
एवं मुनि श्री सहज सागर जी महाराज के श्रुत आराधना वर्षायोग 2022 का कलश स्थापना समारोह रविवार 10 जुलाई को किया जा रहा है। कलश स्थापना समारोह इंदौर कंचनबाग स्थित समवशरण मंदिर परिसर में सुबह 8.15 बजे होगा।
श्रुत आराधना वर्षा योग समिति के संयोजक आजाद जैन बीड़ी वाले, टी के वेद,और सी ए अशोक खासगीवाला ने कार्यक्रम की जानकारी देते हुए बताया कि दिगंबर जैन उदासीन श्रावक आश्रम ट्रस्ट, तुकोगंज दिगंबर जैन समाज, दिगंबर जैन समवशरण ग्रुप एवं महिला मंडल, दिगंबर जैन समाज सामाजिक संसद, सोशल ग्रुप फेडरेशन, पुलक चेतना मंच और सकल दिगंबर जैन समाज के सहयोग से संपन्न किया जा रहा है। साथ ही बताया कि 4 माह तक चलने वाले वर्षायोग में होने वाले समस्त कार्यक्रमों के लिए समवशरण मंदिर परिसर में भव्य एवं विशाल पंडाल तैयार किया गया है। मीडिया प्रभारी राजेश जैन दद्दू ने बताया कि वर्षायोग के दौरान मुनि श्री के मुखारविंद से धर्म अध्यात्म और श्रुत की माहिती प्रभावना होगी। साथ ही बताया कि संस्कारधानी जबलपुर में जन्मे मुनि श्री आदित्य सागर जी महाराज एमबीए तक शिक्षित है और हिंदी, अंग्रेजी, संस्कृत, कन्नड़, प्राकृत 16 भाषाओं के ज्ञाता हैं। उनकी चर्या एवं प्रवचन में उनके दीक्षा गुरु आचार्य श्री विशुद्ध सागर जी महाराज की छवि दिखाई देती है। मुनि श्री आदित्य सागर जी महाराज ने हिंदी, संस्कृत, प्राकृत और कन्नड़ भाषा में कई आध्यात्मिक ग्रंथ लिखे हैं।

Related Posts

Menu