पर्यूषण महापर्व पर कत्लखाने बंद करने की जैन समाज की मांग

label_importantसमाचार

इंदौर। जैन समाज ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखकर मांग की है कि जैन धर्म के प्रमुख पर्व के मद्देनजर देश के सभी कत्लखाने व बूचड़खाने बंद रखे जाएं। इसके अलावा सभी प्रकार के मांसाहारी खाद्य पदार्थों की बिक्री पर रोक लगाई जाए। इंदौर जैन समाज सामाजिक सांसद युवा प्रकोष्ठ प्रवक्ता राजेश जैन दद्दू ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखा है कि जैन धर्म का प्रमुख अठारह दिवसीय महापर्व पर्युषण/दशलक्षण पर्व 23 अगस्त से 09 सितम्बर तक मनाया जाएगा। इन दिनों सभी जैन धर्मावलम्बी ज्ञान, दर्शन, चारित्र ओर तप की आराधना, साधना ओर उपासना करते हैं। पर्युषण/दशलक्षण पर्व के दौरान अहिंसा, करुणा ओर मैत्री का विशेष संदेश प्रचारित किया जाता है। जैेन धर्म की अहिंसा की व्याख्या यह है कि हम छोटे से छोटे प्राणी की आत्मा को अपनी आत्मा के समान समझते हैं।
पत्र के माध्यम से राजेश जैन दद्दू ने मांग की है कि भगवान महावीर के संदेश जीओ ओर जीने दो की उपयोगिता को ध्यान में रखते हुए जैन धर्म के पर्युषण पर्व के अठारह दिवस तक न केवल सम्पूर्ण भारत के कत्लखानों को बंद रखा जाए अपितु मांस के क्रय- विक्रय को भी अठारह दिनों तक प्रतिबंधित किया जाए।

Related Posts

Menu