मुनि श्री सुप्रभ सागर जी की कृति ‘सोच नई’ का हुआ भव्यातिभव्य विमोचन

label_importantसमाचार
muni shree suprabh sagarji ki krati

पपौरा, टीकमगढ़। श्री दिगम्बर जैन अतिशय क्षेत्र पपौरा जी की पावन धरा पर चल रहे श्री 1008 भगवान नेमिनाथ मज्जिनेंद्र जिनबिंब पंचकल्याणक प्रतिष्ठा महोत्सव में आचार्य श्री विशुद्ध सागर जी महाराज के सुयोग्य प्रभावक शिष्य मुनि श्री सुप्रभ सागर जी महाराज की कृति ‘सोच नई’ का भव्यातिभव्य लोकार्पण 09 मार्च 2021 को पपौरा की पावन वसुंधरा पर दोपहर 2 किया गया।

कृतिकार श्रमण श्री सुप्रभसागरजी महाराज हैं तथा संकलनकर्ता श्रमण श्री प्रणतसागरजी महाराज हैं। यह एक काव्य ग्रन्थ है।
समाज के गणमान्य अतिथियों द्वारा विमोचन के बाद कृति की एक-एक प्रति मंचासीन आचार्य श्री प्रमुखसागर जी ससंघ, कृतिकार मुनि श्री सुप्रभ सागर जी, मुनि श्री आदित्य सागर जी ससंघ, मुनि श्री प्रणत सागर जी महाराज के कर कमलों में भेंट की। उक्त जानकारी डॉ. सुनील जैन संचय ललितपुर ने प्रदान की है।

धन्यवाद!
डॉ. सुनील जैन संचय, ललितपुर

Related Posts

Menu